भाफिटेसं के स्‍थायी वित्‍त समिति के सदस्‍यों की सूची

भाफिटेसं सोसायटी के सदस्‍ो की सूची

लोक सूचना अधिकारी का विवरण

शासी परिषद के सदस्‍य को सूची (प्रबन्‍धन)

शैक्षिक सदस्

सूचना अ‍. की स्थिति

अध्ययन अवकाश२४.

वेतन पंजी (जुलाई 2013)

भाफिटेसं, पुणे के टेलीफोन नं. की सूची

 

* सूचना अधिकार अधिनियम और सूचना अधिकार - अन्य फुटकर से संबंधित अधिक जानकारी

* केन्द्रीय सूचना आयोग का वार्षिक रिपोर्ट के डाटा की मासिक प्रस्तुति

* सूचना अधिकार अधिनियम वार्षिक सूचना सिस्टम (2009-10)


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान, पुणे का मैन्युअल

(सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के अध्याय - खख, अनुच्छेद (4) (बी) )


1. संगठन, कार्य और कर्तव्य

भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान की स्थापना सन्1960 में सूचना और प्रसारण मंत्रालय की अधीनता में भारत सरकार द्वारा की गई थी सन्1974 में टीवी स्कन्ध जोडने के पश्चात्संस्थान का पुनः नामांकन करके भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान रखा गया अक्तूबर 1974 में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के अन्तर्गत पंजीकरण करने के पश्चात्संस्थान एक सोसायटी बन गया इस सोसायटी में फिल्म,टेलीविजन,संचार, संस्कृति से सम्बद्ध व्यक्तियों, संस्थान के पूर्व छात्रों तथा पदेन सरकारी सदस्यों को सम्मिलित किया गया संस्थान पर शासी परिषद का नियंत्रण है, जिसका प्रमुख अध्यक्ष (चेयरमन) होता है, जो सिनेमा, टेलीविजन और कला क्षेत्र के प्रतिष्ठित व्यक्ति होते हैं संस्थान की शैक्षिक परिषद द्वारा शैक्षिक नीतियों और योजनाओं की निर्मिति की जाती है वित्त संबंधी मामलों पर स्थायी समिति द्वारा नियंत्रण रखा जाता है


I) निम्नलिखित चार विशेषज्ञता के साथ फिल्म और टेलीविजन में तीन वर्षीय

स्नातकोत्तर पदविका

) निर्देशन

) चलचित्रांकन

) सम्पादन

) ध्वनिमुद्रण और ध्वनि संरचना


II) फिल्म अभिनय में द्वि वर्षीय स्नातकोत्तर पदविका


III) कला निर्देशन और निर्माण संरचना में द्वि वर्षीय स्नातकोत्तर पदविका


IV) निम्नलिखित चार विशेषज्ञता के साथ टेलीविजन में एक वर्षीय स्नातकोत्तर प्रमाणपत्र

पाठ्यक्रम :

) टीवी निर्देशन

) इलेक्ट्रॉनिक चलचित्रांकन (सिनेमाटोग्राफी)

) वीडियो सम्पादन

) ध्वनिमुद्रण और टीवी अभियांत्रिकी

V) फीचर फिल्म पटकथा लेखन में एक वर्षीय स्नातकोत्तर प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम

VI) एनिमेशन और कम्प्यूटर ग्राफिक्स में डेढ वर्षीय प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम ।

टीवी स्कन्ध दूरदर्शन के सभी श्रेणियों के कर्मचारियों के लिए टेलीविजन पाठ्यक्रमों में टीवी निर्माण तकनीकी प्रचालन, सम्पादन, ध्वनि मुद्रण, कैमेरा, ग्राफिक्स और सेट डिजाइन आदि पाठ्यक्रम संचालित करता है

* दूरदर्शन कर्मिकों के लिए टीवी निर्माण और तकनीकी प्रचालन विषय पर 12 सप्ताहों का पाठ्यक्रम

* अन्य लघु पाठ्यक्रम :-

1) दूरदर्शन कर्मिकों के लिए वृत्तचित्र निर्माण (डॉक्यूमेंट्री प्रोडक्शन) निर्माण - 6 सप्ताह

2) दूरदर्शन कर्मिकों के लिए वीडियोग्राफी पाठ्यक्रम 2 सप्ताह

3) दूरदर्शन कर्मिकों के लिए टीवी निर्माण के लिए डिजिटल ग्राफिक्स पाठ्यक्रम - 2 सप्ताह

4) बाह्य व्यक्तियों के लिए नॉन लिनियर सम्पादन पाठ्यक्रम - 3 सप्ताह

5) बाह्य व्यक्तियों के लिए मूलभूत वीडियोग्राफी पाठ्यक्रम - 2 सप्ताह

6) बाह्य व्यक्तियों के लिए वीडियोग्राफी का प्रगत (एडवांस) पाठ्यक्रम - 4 सप्ताह

7) दूरदर्शन कर्मियों के लिए टीवी निर्माण में मल्टीमीडिया के अनुप्रयोग विषय पर अभिविन्यास पाठ्यक्रम - 4 सप्ताह

8) दूरदर्शन कर्मियों के लिए कला निर्देशन (मूलभूत स्तर का) - 3 सप्ताह

9) दूरदर्शन कर्मियों के लिए टीवी निर्माण के लिए ध्वनि संरचना - 2 सप्ताह

10) दूरदर्शन कर्मियों के लिए टीवी तकनॉलाजी - 2 सप्ताह

11) दूरदर्शन कर्मियों के लिए मेक-अप पाठ्यक्रम - 2 सप्ताह

12) दूरदर्शन कर्मियों के लिए डीवी केम प्रचालन की जानकारी - 1 सप्ताह

13) दूरदर्शन कर्मियों एवं बाहरी व्यक्तियों के लिए नीति टेलीविजन प्रबन्धन- 4 सप्ताह

14) दूरदर्शन कर्मियों एवं बाहरी व्यक्तियों के लिए टीवी अनुसन्धान पद्धति - 2 सप्ताह

15) विश्वविालयों की मांग के अनुसार विभिन्न विश्वविालयों एवं संस्थानों के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के स्नातकोत्तर छात्रों के लिए की गई कार्यशालाएँ इस प्रकार है :-

) पंजाब यूनीवर्सिटी, पटियाला ) गुरु नानक देव यूनीवर्सिटी, जालन्धर ) इंटरनॅशनल स्कूल ऑफ बिजनेस एण्ड मीडिया, पुणे ) महात्मा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्व विालय, वर्धा, महाराष्ट्र


तथापि टेलीविजन उोग के बढते विकास को ध्यान में रखते हुए टेलीविजन इनपुट (सामग्री) सहित फिल्म स्कन्ध के मुख्य पाठ्यक्रमों की पाठ्यचर्या को अतन किया गया है नये पाठ्यक्रम से संस्थान के छात्र, दोनों व्यवसायों के लिए आवश्यक संरचनात्मक और तकनीकी कौशल प्राप्त कर पाएंगे



चालीस वर्षों से भी अधिक का इतिहास है कि भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के पूर्व छात्रों ने एक विशेष पहचान बनाई हैं तथा उन्हें अपने देश और विश्व में फिल्म और मीडिया व्यावसायिकों से सम्मान प्राप्त हुआ है । पूर्व छात्रों की फिल्मों को लम्बी फीचर की तथा लघु फिल्म श्रेणी में प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त होते हैं । लगभग चार दशकों में भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के पूर्व छात्रों द्वारा बनाई गई बहुत सी फिल्मों ने राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में पुरस्कार जीते ।


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान से 1388 छात्र उत्तीर्ण हुए जो देश तथा विश्व के फिल्म और टेलीविजन उोग में अच्छी तरह से कार्यरत हैं भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान ने सुप्रसिद्ध फिल्म हस्तियाँ प्रदान की है, जिन्होंने देश के लिए सम्मान अर्जित किया उनमें से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार / यूनेस्को पुरस्कार प्राप्त करने वाले भाफिटेसं के सुप्रसिद्ध पूर्व छात्र हैं :- श्रीमती शबना आजमी, जया बधन, रेणू सलूजा, सर्वश्री अदूर गोपालकृष्णन, के.के.महाजन, शाजी एन. करूण, केतन मेहता, कुमार शाहनी, जानू बरूआ, गिरिश कासारवल्ली, सईद मिर्जा, मणि कौल, ओम पुरी, नसीरूद्दीन शाह तथा अन्य अभी-अभी तथा इससे पूर्व ङङ्गअशोका' फिल्म बनाने वाले श्री संतोष सीवन तथा ङङ्गदेवदास' को बनाने वाले श्री संजय लीला भन्साली, ये दोनों भाफिटेसं के भूतपूर्व छात्र हैं, जो अर्न्तराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में सहभागी होने के कारण चर्चा में रहें


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान फिल्म निर्माण और टेलीविजन की कला तथा तकनीक में उधतम तथा व्यावसायिक शिक्षा और तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान करता है दूरदर्शन के सभी श्रेणियों के अधिकारियों को सेवाकालीन प्रशिक्षण भी दिया जाता है सन्1971 से टेलीविजन स्कन्ध में दूरदर्शन कर्मियों के लिए सेवाकालीन प्रशिक्षण आयोजित किया जा रहा है दूरदर्शन कर्मियों, भा.सू. सेवा के परीविक्षाधीन अधिकारियों के लिए विशेषज्ञता के क्षेत्र में लघु अवधि पाठ्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं और अब तक फिल्म सराहना पाठ्यक्रम के साथ-साथ लगभग 6000 प्रतिभागी प्रशिक्षित किए जा चुके हैं


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान ने उपलब्ध संरचनात्मक तथा सुविधाओं का पूर्णरूप से उपयोग करने का प्रयास किया है अतिरिक्त क्षमता का पूर्णरूप से उपयोग करने का आरम्भ सुनिश्चित करने के लिए पटकथा लेखन और अभिनय क्षेत्र के एक अथवा दो वर्ष की अवधि के पाठ्यक्रमों के अतिरिक्त भाफिटेसं ने 2 से 8 सप्ताहों की अवधि के 21 लघु अवधि पाठ्यक्रमों से परिचय करवाया है ये पाठ्यक्रम जब पूर्ण रूप से कार्यान्वित हो जाएंगे, तो ये संस्थान को और अधिक राजस्व उत्पन्न करने में संस्थान की सहायता करेंगे और जिससे संस्थान आत्मनिर्भर बन सकता है भविष्य में विशेषज्ञता के प्रत्येक क्षेत्र में छात्रों की संख्या बढाने का भी प्रस्ताव किया गया है


आज भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान न केवल भारत में बल्कि सम्पूर्ण विश्व में उध कोटि के शिक्षण केन्द्र के रूप में जाना जाता है । भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान विश्व के सभी प्रमुख फिल्म और टेलीविजन स्कूलों की प्रातिनिधिक /सर्वोध निकाय सिलेक्ट का सदस्य है ।



2. भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के अधिकारियों और कर्मचारियों की क्षमताएँ

और कर्तव्य

प्राध्यापक, सहायक प्राध्यापक और व्याख्याता प्रत्येक वर्ष प्रवेश लेने वाले छात्रों की कक्षाएँ लेते हैं विभिन्न विभागों में कार्यरत प्रचालन और अनुरक्षण का कार्य करने वाले कर्मचारियों की सेवाओं का उपयोग विभागों की सुव्यवस्था बनाए रखने और प्रशिक्षण तथा कक्षाएँ संचालित करने में संकाय सदस्यों तथा छात्रों की सहायता के लिए किया जाता है प्रशासनिक स्टाफ की सेवा का उपयोग रिकार्डों को तैयार करने तथा प्रशासनिक कार्यों के लिए किया जाता है


3. निर्णय लेने की पद्धति में अपनाई जाने वाली प्रक्रिया,पर्यवेक्षण और उत्तरदायित्व के

माध्यमों सहित

संस्थान, सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के अधीन पंजीकृत सोसायटी है और यह सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अधीन स्वायत्त संस्था है भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान अपनी गतिविधियों और शैक्षिक कार्यक्रमों के लिए निवल घाटे के आधार पर मंत्रालय से अनुदान प्राप्त करता है समग्र बजट संबंधी आवश्यकताओं को संस्थान को प्राप्त होने वाले आन्तरिक राजस्व को घटा कर इस घाटे के बजट की गणना की जाती है भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान सोसायटी के 26 सदस्य हैं उनमें से 9 पूर्व पदेन अधिकारी, 05 पदेन अधिकारियों सहित 15 शासी परिषद के सदस्य है स्थायी वित्तिय समिति के 4 सदस्य हैं भाफिटेसं के निदेशक का कार्य सचिव सदस्य के रूप में काम करना है शासी परिषद एक सर्वोध निकाय है, जो इसके उद्देश्यों और लक्ष्यों के सामंजस्य हेतु संस्थान की नीतियों के विषय में निर्णय लेने के लिए उत्तरदायी होती है शासी परिषद बारी-बारी से शैक्षिक परिषद की नियुक्ति करती है

शैक्षिक तथा वित्तीय विषयों से संबंधित नीति मामलों पर सलाह देने के लिए शैक्षिक परिषद और स्थायी वित्त समिति उत्तरदायी होती है शासी परिषद द्वारा लिए गए किसी भी निर्णय, को यदि आवश्यक हो तो, कार्यान्वित करने के लिए केन्द्रीय सरकार से अनुमोदन प्राप्त करना होता है शासी परिषद के कार्यकाल की अवधि 3 वर्ष है भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान की शैक्षिक परिषद में उन सदस्यों को सम्मिलित किया जाता है, जो फिल्म और टेलीविजन क्षेत्र में प्रतिष्ठित होते हैं और जो पाठ्यचर्या अन्य शैक्षिक गतिविधियों पर पुनर्विचार करते है और उन्हें अतन करते हैं सोसायटी के (चेयरमन) अध्यक्ष शासी परिषद, शैक्षिक परिषद और स्थायी वित्त समिति के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य करते हैं


4. अपने कार्यों को करने के लिए भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के द्वारा

बनाए गए मानदण्ड


इस संगठन के ज्ञापन (मेमोरेंडम) में दिए गए भिन्न-भिन्न अनुच्छेदों के अनुसार भा.फि.टे.सं. कार्य करता है । संगठन के ज्ञापन में दिए गए उद्देश्यों के मुख्य विषय निम्नलिखित हैं :-



1. स्नातकपूर्व और स्नातकोत्तर, दोनों ही स्तरों पर फिल्म और टेलीविजन की सभी शाखाओं के शिक्षण की उपयुक्त पध्दति (पॅटर्न) को इस प्रकार विकसित करना, जिससे भारत में फिल्म और टेलीविजन शिक्षा के उध मानक स्थापित हो सके


2. भारतीय फिल्मों और टेलीविजन कार्यक्रम के तकनीकी मानकों को इस प्रकार उन्नत करने का निरन्तर प्रयास करना, जिससे वे सौन्दर्यपरकता की दृष्टि से अधिक संतोषजनक और स्वीकार्य हो


3. सिनेमा और टेलीविजन क्षेत्र में नये विचारों और तकनीकियों के निरन्तर अन्तर्प्रवाह और इन विचारों और तकनीकियों को आत्मसात, करके प्रशिक्षित कर्मियों को बाहर जाना


4. भारत में फिल्म उोग और संगठनों की बढती हुई आवश्यकताओं के लिए और विशेषतः टेलीविजन कर्मिकों के लिए सेवा के दौरान प्रशिक्षण कार्यक्रम गठित करने के लिए प्रशिक्षित व्यक्तियों को तैयार करना


5. फिल्म और टेलीविजन के क्षेत्र में भावी कर्मचारियों में केवल मनोरंजन के अपितु शिक्षा और कलात्मक अभिव्यक्ति के साधन के रुप में उनके माध्यम की क्षमता के विषय में नई जागरुकता उत्पन्न करना


6. पूर्व संस्थान तथा टेलीविजन केन्द्र के प्रशासन और प्रबन्ध को ग्रहण करना और चलाना


7. फिल्म, टेलीविजन और अभिनय कलाओं के क्षेत्र में अन्य राष्ट्रीय और / या विदेशी संस्थानों और संस्थाओं तथा संगठनों को सहयोग देना


8. सिनेमा और टेलीविजन के लिए फिल्में बनाने की कला और शिक्षा में तथा सम्बद्ध विषयों में स्नातकोत्तर पूर्व और स्नातकोत्तर शिक्षण की व्यवस्था करना


9. फिल्म और टेलीविजन की विभिन्न शाखाओं में अनुसंधान के लिए सुविधाएँ प्रदान करना तथा अनुसंधान कराना


10. स्नातक पूर्व और स्नातकोत्तर अध्ययनों के लिए पाठ्यक्रम और पाठ्य विषयों को निर्धारित करना


11. यथासम्भव परीक्षाएँ आयोजित करना तथा डिप्लोमा, प्रमाणपत्र और शैक्षिक उपाधियाँ / सम्मान प्रदान करना

12. पुनश्चर्या पाठ्यक्रम, ग्रीष्मकालीन स्कूलों आदि को संगठित करना तथा देश के अंदर और विदेशों से अनुसंधान विद्वानों और विशेषज्ञों को व्याख्यान देने और अनुसंधान के विकास हेतु आमंत्रित करना तथा उन्हें समुचित पारिश्रमिक का भुगतान करना


13. संस्थान के छात्रों, स्टाफ के सदस्यों को संगोष्ठियों, सम्मेलनों, कार्यशालाओं, प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों और इसी प्रकार के अन्य कार्यों के लिए, भारत में और विदेशों में, अध्येयता वृत्ति, छात्रवृत्ति आदि के माध्यम से अन्यथा प्रतिनियुक्ति करना


14. किसी ऐसी पत्रिकाओं, नियतकालिकों, विनिबन्ध (मोनोग्राफ) पोस्टर अथवा फिल्म को मुद्रित करना, जो संस्थान के उद्देश्यों को बढावा देने के लिए वांछनीय है


15. संस्थान के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए सरकारी और गैर सरकारी तथा अन्य शैक्षिक निकायों

के कार्यों में सहायता तथा सहयोग देना


16. फिल्म और टेलीविजन के क्षेत्र में अध्ययन तथा अनुसंधान में रुचि बढाने की दृष्टि से छात्रवृत्तियाँ, अध्येयता वृत्तियों, आर्थिक सहायता और पारितोषिक/पुरस्कार की स्थापना करना तथा प्रदान करना


17. नियमों और उपविधियों के अनुसार प्रोफेसर पदों., रीडर पदों, प्राध्यापक पदों तथा किसी निर्धारित अन्य पदों का सृजन करना और उन पदों पर नियुक्ति करना


18. संस्थान के विद्वानों, अधिकारियों, स्टाफ-सदस्यों तथा छात्रों के निवास के लिए छात्र निवास और छात्रावासों को स्थापित करना तथा उनके संबंध में फीस और अन्य प्रभार नियत तथा वसूल करना


19. संस्थान के प्रयोजन के लिए किसी सरकार, निगम, न्यास या व्यक्ति से कोई अनुदान, अंशदान, चंदा, भेंट वस्तुएँ, दान, वसीयत और चल तथा अचल सम्पत्तियों का अन्तरण

स्वीकार करना, परन्तु यह तब, जब उसके साथ ऐसी कोई शर्त या बाध्यताएँ हो, जो संस्थान के उद्देश्यों के विरुध्द हो विदेशी सरकारों, विदेशी संगठनों या अन्तर्राष्ट्रीय संगठनों से कोई अनुदान या दान प्राप्त करने के मामले में केन्द्रीय सरकार का पूर्व अनुमोदन लेना आवश्यक है


20. एक निधि बनाए रखना, जिसमें निम्नलिखित राशि जमा करना अपेक्षित होगा :


) केन्द्र सरकार द्वारा दिया गया सभी धन,


) संस्थान को प्राप्त सभी फीसें और अन्य प्रभार


) अनुदान भेंट वस्तु, दान, वसीयत अथवा अन्तरण द्वारा संस्थान का प्राप्त सभी धन और


) किसी भी अन्य रीति से अथवा किसी भी अन्य स्त्रोत से संस्थान को प्राप्त सभी धन।


21. निधि में जमा किए गए समस्त धन को ऐसे बँकों में जमा कराना या ऐसी रीति से उसे लगाना (विनिधान करना) जो संस्थान के निर्णय के अनुसार करना


22. चैक, नोट या अन्य समझौता वार्ता की लिखत लिखना, तैयार करना, स्वीकार करना और पृष्ठांकित करना और उन पर बट्टा देना (डिस्काउंट चैक) और इस प्रयोजन के लिए ऐसे हस्तान्तरण पत्रों और विलेखों पर हस्ताक्षर करना, उन्हें निष्पादित करना तथा उन्हें सौंपना, जो संस्थान के उद्देश्यों के लिए आवश्यक हो


23. संस्थान की निधियों या उनके किसी विशिष्ट भाग से उन व्ययों को देना, जिसे संस्थान ने समय-समय पर अपने कार्यकलाप के प्रबन्ध और प्रशासन के लिए उपयोग में लाया हो इसके अन्तर्गत संस्थान की संरचना के आकस्मिक सभी व्यय, समस्त किरायें, दरें, कर, निर्गम और कर्मचारियों के वेतन भी है


24. संस्थान के शिक्षकों, स्टाफ के सदस्यों और अन्य कर्मचारियों या पूर्व कर्मचारियों को अथवा उनकी पत्नियों, विधवाओं, बधों, अथवा अन्य आश्रित व्यक्तियों को पेन्शन ग्रॅच्युइटीज्या पूर्व सहायता देना


25. संस्थान द्वारा नियोजित किसी व्यक्ति के बीमें के लिए भुगतान करना और उसके लिए या उसकी पत्नी, विधवा, बधों या अन्य आश्रित व्यक्तियों के लिए भविष्यनिधि और सुविधा निधि की स्थापना करना और उसमें अंशदान करना


26. संस्थान के प्रयोजनों के लिए किसी रीति से सम्पत्ति अर्जित करना, धारण करना, या बेचना, परन्तु किसी अचल सम्पत्ति के बेचने के मामले में केन्द्रीय सराकर का पूर्व अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक है


27. संस्थान की किसी सम्पत्ति का ऐसे ढंग से प्रयोग करना, जिसे संस्थान के उद्देश्यों को अग्रसर करने हेतु उचित समझा जाए


28. संस्थान के उद्देश्यों के लिए केन्द्रीय सरकार के पूर्व अनुमोदन से प्रतिभूति जमा सहित या उसके बीमा अथवा किसी बन्धक, या भार या गिरवी रखने अथवा अमानत के रुप में अथवा अन्य कोई रीति में धन उधार देना और जुटाना


29. संस्थान के किसी ऐसे धन का निवेश (इनवेस्ट) करना और उसी के लिए व्यवहार में लाना, जिसकी संस्थान के किसी उद्देश्य के लिए तुरन्त आवश्यकता हो, ऐसा निवेश या व्यवहार, ऐसे ढंग से किया जाए, जो संस्थान संविधान के द्वारा उपबन्धित है या जो समय- समय पर निर्धारित की जाए


30. संस्थान के उद्देश्यों के सम्बन्ध में मकानों, छात्रावासों, स्कूलों अथवा अन्य इमारतों जिनके अन्तर्गत विमान भवन भी है उसका निर्माण, अतिरिक्त बढना तथा उसमें परिवर्तन, उसमें विस्तार करना, सुधार करना, मरम्मत करना, बढाना या परिवर्तन करना और उनमें प्रकाश, जल, नालियों, फर्निचर, फिटिंग, उपकरणों, साधित्रों और उपकरणों की व्यवस्था करना और उनसे उन्हें सज्जित करना, जिससे उनका प्रयोग, ऐसे भवन के रुप में किया जाए, जिसका संबंध संस्थान के उद्देश्यों से संबंधित है



31. संस्थान की अथवा उसके द्वारा धारित किसी भूमि पर मनोरंजनप्रद अथवा खेल का मैदान,पार्क या किसी स्थावर सम्पत्ति की संरचना करना या उसे अर्जित करना, विन्यास करना, मरम्मत करना, विस्तारित करना, परिवर्तित करना और सुधार करना


32. संस्थान के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए जैसा भी उचित लगे समितियों या उप समितियों का गठन करना


33. संस्थान के कार्यकलापों के संचालन के लिए नियम और विनियम बनाना तथा समय-समय पर उनमें जोडना, संशोधन, परिवर्तन और रद्दे करना और


34. ऐसे सभी विधिपूर्ण कार्य और अन्य बातें, चाहे पूर्वोक्त अधिकारों के आनुषंगिक हो या नहीं, जो अनुसन्धान और प्रशिक्षण केन्द्र के रुप में संस्थान के सभी या किसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिए आवश्यक और लाभकारी है


5. नियम,विनियम, निर्देश, मैनुअल और रिकार्डस्,जो इसके पास है अथवा नियंत्रण में हैं अथवा जिनका कर्मचारियों द्वारा अपने कार्यों को करने के लिए उपयोग किया जाता हो

भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के सभी कर्मचारियों पर भाफिटेसं के सेवा नियमों का नियंत्रण है तथापि जब कभी भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान अपने ऐसे कुछ नियम जैसे वेतनमान,एल.टीसी, छुट्ठियाँ और अनुशासनिक नियम नहीं बनाता तो संस्थान केन्द्रीय नागरिक सेवा नियमों को अपनाता है

6. दस्तावेजों की श्रेणियों की तालिका, जो भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के पास है अथवा इसके नियंत्रण में है


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान एक प्रशिक्षण संस्थान है, जहाँ फिल्म और टेलीविजन कार्यक्रमों के निर्माण का प्रशिक्षण दिया जाता है छात्रों और टीवी प्रशिक्षणार्थियों के नामांकन, अध्यापकीय और गैर अध्यापकीय सदस्यों की भर्ती, संदर्भ पुस्तकें, विभिन्न नियमों से सम्बद्ध पुस्तकें आदि कुछ ऐसे दस्तावेज हैं जो संस्थान के पास हैं


7. इसकी नीति निरूपण अथवा कार्यान्वयन के संबंध में परामर्श अथवा आम सामान्य जनता के सदस्यों द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए विमान किसी व्यवस्था का ब्यौरा इस उद्देश्य के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार ने भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान की स्थापना की है


8. दो या इससे अधिक व्यक्तियों से गठित ऐसे मण्डलों,परिषदों, समितियों और अन्य निकायों के भाग के रूप में या परामर्श देने हेतू ऐसे मण्डलों, परिषदों, समितियों और अन्य निकायों की बैठकें आम जनता के लिए खुली हैं अथवा इस प्रकार की बैठकों का कार्यवत्त आम जनता की पहँुच में है


भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान की शासी परिषद द्वारा आयोजित की जानेवाली विभिन्न बैठकों के कार्यवृत्त आम जनता से संबंधित नहीं होते हैं । भाफिटेसं सोसायटी द्वारा आयोजित बैठकें संस्थान के दैनंदिन कार्य को सुचारू रूप से चलाने हेतु आवश्यक पर्यवेक्षण/परामर्श के लिए आयोजित की जाती हैं । तथापि भाफिटेसं की वार्षिक रिपोर्ट संसद में प्रस्तुत की जाती है तथा औपचारिक स्वीकृति के पश्चात्‌ आम जनता के लिए उपलब्ध करवायी जाती हैं ।



9. भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान के अधिकारियों और कर्मचारियों की

निदेशिका


क्रम संख्‍या

नाम और पदनाम

कार्यालय

1.

श्री भूपेन्द्र कैन्थोला

निदेशक

फोन +91-20-25431010

फॅक्‍स : 25430416

2.

श्री संदीप शहारे

कुलसचिव

फोन +91-20-25433360


3.

श्री आर.एन. पाठक

संकायाध्‍यक्ष (टेलीवि‍जन)

फोन +91-20-25430366


4.

डॉ. केदारनाथ आवटी

संकायाध्‍यक्ष (फिल्‍म)

फोन +91-20-25431113


5.

श्री सुभाष के. डेकाटे

प्रशासनिक अधिकारी

फोन +91-20-25432299


6.

श्रीमती उज्ज्वला ढेकणे

मुख्‍य लेखा अधिकारी

फोन +91-20-25430455


7.

श्री संजय जाधव

सुरक्षा अधिकारी,

करार आधार पर

फोन +91-20-25431817

विस्‍तार 241


8.

श्री एम.पी.बुलबुले

सम्‍पदा प्रबन्‍धक

फोन +91-20-25431817

विस्‍तार 208

9.

श्री के.. शेख

निर्माण प्रबन्‍धक

फोन +91-20-25444513


10.

श्री एन.डी. धोटे

क्रय अधिकारी

फोन +91-20-25431366

विस्‍तार 210

11.

श्री किर्तीकुमार वी. काकडे

लेखा अधिकारी

फोन +91-20-25431817

विस्‍तार 247




10. प्रत्येक अधिकारी तथा कर्मचारी को प्राप्त होने वाला मासिक मेहनताना शर्त के अनुसार क्षतिपूर्ति की पद्धति सहित

भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान में नियमित सेवाओं पर कार्य करनेवाले अधिकारी और कर्मचारी केन्द्रीय सरकार के वेतन नियम द्वारा नियंत्रित है ।


11. इसकी प्रत्येक एजेंसी को दिया गया बजट, सभी योजनाओं, प्रस्तावित व्ययों और किये गये भुगतानों की रिपोर्ट की जानकारियाँ सहित

अनुच्छेद - 4(बी) (xi)


(रूपये लाखों में)

विवरण

एस.बी.जी. 2006-2007

प्रत्यक्ष व्यय

जून, 2006 तक

अभ्युक्ति

गैर योजना

682.00 (निवल)

144.65 (निवल)

एस.बी.जी.

तालिका -

योजना

235.11

14.00

एस.बी.जी.

तालिका -



संलग्न : तालिका I और II


स्वीकृत बजट प्राकलन -2006-2007 के शीर्षानुसार विनियोग दिखानेवाली तालिका

( मंत्रालय के पत्र संख्या जी-20011/3/2005 तथा ले दिनांक 01.02.2006 के द्वारा अनुमोदित )

(रूपये लाखों में)

क्र.सं.

विनियोग के उपशीर्ष /इकाई

2006-2007 का बजट

प्रस्तावित परिव्यय



1.

वेतन

470.00

2.

पेन्शन,ग्रॅच्युइटी, सी.पी.एफ, अवकाश वेतन

75.00

3.

यात्रा भत्ता

12.00

4.

टेलीफोन व्यय

06.64

5.

कार्यालय व्यय

45.00

6.

सांस्कृतिक और लोक कल्याण

01.00


कुल :

609.64



7.

किराया/दर/कर

12.00

8.

बिजली प्रभार

35.00

9.

इमारतों का रखरखाव

सिविल

इलेक्ट्रिकल


14.00

14.00

10.

विशेष मरम्मत

सिविल

इलेक्ट्रिकल


8.00

8.00


कुल :

81.00



11.

रॉ स्टॉक

65.00

12.

निर्माण खर्च

40.00

13.

उपकरण और आवश्यक वस्तुएं

06.00

14.

पुस्तक और प्रकाशन

02.50

15.

छात्रवृत्तियाँ/वजीफे

02.86


व्यावसायिकों को भुगतान

24.00


सूचना और तकनीकी

01.00


कुल :

141.36


कुल जोड (++)

(-) राजस्व प्राप्तियाँ

842.00

160.00


निवल

682.00














तालिका -

वार्षिक योजना 2006-2007 को दिखानेवाली तालिका

(प्रस्तावित व्यय लक्ष)


क्रम.सं.

मद

संख्या

अनुमानित कीमत


पूँजी अनुभाग



()

भाफिटेसं, पुणे का उन्नतिकरण तथा आधुनिकीकरण



()

मशीनरी और उपकरण



1.

प्रिव्यू के लिए वीडियो प्रोजेक्टर और संबंधित सुविधाएँ

1

09.00

2.

टीवी उपकरण के लिए अतिरिक्त भाग/जॉंच और मापक के उपकरण/उपकरण ए.एम.सी.

एक मुश्त

18.11

3.

मेसर्स एरीफ्लेक्स, जर्मनी द्वारा दान में दिए गए एरीफ्लेक्स 0535- कैमेरा के लिए लेन्स और अन्य पुर्जें


19.00


कुल -()


46.11

(खख)

सीसीडब्ल्यू सिविल/बिजली मरम्मत कार्य



1

फायर फाइटिंग उपकरण और फिल्म स्टूडियो नं. ख और खख के लिए हायड्रन्ट लाइन


33.98

2.

कारपेन्ट्री शेड का निर्माण


31.58


कुल - (ख ख)


65.56

(खखख)

कम्प्यूटरीकरण और आधुनिकीकरण



1.

फिल्म और टेलीविजन निर्माण में सक्रिय प्रशिक्षण पाठ्‌यक्रमों के लिए आावश्यक सॉफ्टवेअर और सहायक सामग्री के साथ वेब सर्वर ।


50.00

2.

शैक्षिक विभागों के लिए कम्प्यूटर सुविधा : कम्प्यूटर हार्डवेअर की खरीद स्टोरेज सिस्टिम, नेटवर्किंग,इंटर फेस कार्ड आदि सॉफ्टवेअर खरीद, अध्यापन और सम्बधित विषयों के लिए अतन करना


10.00

3.

प्रशासनिक विभागों के लिए कम्प्यूटरीकरण : कम्प्यूटरों के हार्डवेअरों की खरीद स्टोरेज सिस्टिम, नेटवर्किंग,इंटर फेस कार्ड आदि सॉफ्टवेअर खरीद, अध्यापन और सम्बधित विषयों के लिए अतन करना


08.00

4.

संस्थान के विभिन्न अनुभागों में विमान हार्ड-वेअर और सॉफ्टवेअर को अतन करना ।


05.24

5.

विमान हार्ड-वेअर/सॉफ्टवेअर में बदलाव


20.20


कुल - (ख ख ख )


93.44


कुल ()


205.11



वार्षिक योजना 2006-2007 को दिखानेवाली तालिका

(भौतिक और वित्तीय लक्ष )


क्र.सं.

विषय

संख्या

अनुमानित कीमत


राजस्व अनुभाग



()

भाफिटेसं, पुणे का मानव संसाधन विकास



()

कम्यूनिटी रेडियो की स्थापना करना



1.

स्थलों से स्टेशन तक रेडियो का सम्पर्क


10.00

(खख)

कैप्टिव टीवी चैनल की स्थापना करना



1.

कार्यक्रमों का निर्माण/कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण/फिल्मों से ट्रान्सफर आदि


10.00

(खखख)

छात्रों के लिए छात्रवृत्ति और विदेशी विश्व विालयों के साथ कार्यक्रमों के विनिमय सहित मानव संसाधन विकास के पहलू


10.00


कुल - ()


30.00


कुल ()+()


235.11


12. ऐसे कार्यक्रमों के लिए दी गयी राशि और लाभाधिकारियों के ब्यौरे सहित सहायता प्राप्त कार्यक्रमों की परीक्षा पद्धति

यह भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान पर लागू नही होता, इसके पास सहायता प्राप्त कार्यक्रम नह है


13. संस्थान द्वारा प्रदान की गयी सरकारी सहायता, परमिट अथवा प्राधिकृत करने सम्बन्धि जानकारियाँ

लागू नहीं ।


14. संस्थान के द्वारा उपलब्ध अथवा नियन्त्रित सूचना से सम्बन्धित जानकारियाँ, जो इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित की गयी हो

सूचना से सम्बन्धित सभी जानकारियाँ हमारी वेब साईटः www.ftiindia.com पर उपलब्ध है।


15. सूचना प्रदान करने हेतु नागरिकों को उपलब्ध करवायी जानेवाली सुविधाओं की

जानकारियाँ, पुस्तकालय अथवा पठन कक्ष के कार्य घण्टों सहित, यदि ये

सार्वजनिक उपयोग के लिए खुले रखे है ।

सूचना प्रदान करने के लिए नागरिकों को उपलब्ध करवायी जानेवाली सुविधाओं का ब्यौरा निम्नानुसार

दिखाया गया है :-


I

संस्थान का एक सूचना और सुविधा काउंटर है, जो भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान के कार्यालय घण्टों, सुबह 10.00 से लेकर शाम 5.30 बजे तक सभी कार्य दिवसों में खुला रहता है , केवल शनिवार छोड कर जब कार्य घण्टे सुबह 10.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक होते है

II

पूछताछ - टेलीफोन नं. 25431817 विस्तार नं. 223

III

फॅक्स नं. 25430416/3441

IV

ई मेल : registraroffice@ftiindia.com


वीडियो लायब्ररी और पुस्तकालय छात्रों अध्यापकों तथा स्टाफ सदस्यों के लिए तथा पूर्व अनुमति से सार्वजनिक सदस्यों के लिए भाफिटेसं के कार्यालयीन समय सुबह 10.00 बजे से शाम 5.30 बजे तक सभी कार्य दिवसों में उपलब्ध होता है



1 जनसम्‍पर्क अधिकारी का नाम, पदनाम तथा अन्‍य जानकारियॉं


पारदर्शिता

(ट्रान्‍सपेरन्‍सी अधिकारी )

श्री भूपेन्द्र कैन्थोला(भासूसे)

निदेशक

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25431010

ई मेल : director@ftiindia.com


अपीलीय अधिकारी

श्री संदीप शहारे

कुलसचिव

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25433360

ई मेल : registraroffice@ftiindia.com


लोक-सूचना अधिकारी

श्री सुभाष के. डेकाटे

प्रशासनिक अधिकारी

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25432299

ई मेल :adminofficer@ftiindia.com

प्रशासनिक मामलों के संदर्भ में सूचना की आपूर्ति के लिए


डॉ. केदारनाथ आवटी

संकायाध्‍यक्ष (फिल्‍म)

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25431113

ई मेल : deanfilm@ftiindia.com

फिल्‍म स्‍कंध के क्रियाकलापों से संबंधित जानकारी के आपूर्ति के लिए


श्री आर.एन. पाठक

संकायाध्‍यक्ष (टेलीविजन)

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25431010

ई मेल : deantv@ftiindia.com

टेलीविजन स्‍कंध के क्रियाकलापों से संबंधित जानकारी के आपूर्ति के लिए


श्रीमती उज्ज्वला ढेकणे

मुख्‍य लेखा अधिकारी

भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन संस्‍थान

विधि महाविद्यालय मार्ग, पुणे - 411004

(कार्यालय) +91-20-25430455

ई मेल :cao@ftiindia.com

लेखा तथा वित्‍तीय मामलों की जानकारी की आपूर्ति के लिए